Instant Home Remedies For Allergy Relief

Instant Home Remedies For Allergy Relief

Instant Home Remedies For Allergy Relief – भिन्न भिन्न रिपोर्ट्स के अनुसार आज दुनिया भर में लगभग 20 से 30 प्रतिशत आबादी किसी ना किसी तरह की एलर्जी से पीड़ित है | जरुरी नहीं की एलर्जी किसी खास चीज से ही हो, बल्कि यह किसी भी वस्तु, जानवर, प्रदुषण या खाद्य पदार्थ के संपर्क में आने से हो सकता है | कभी कभी एलर्जी मौसम के बदलाव के वजह से भी हो जाती है जिसे Seasonal Allergies कहा जाता है |

आज के दौर में एलर्जी बड़ी समस्या के तौर पर उभरते जा रहा है | एलर्जी किसी भी उम्र में हो सकती है | कई बार एलर्जी के समस्या बच्चो में देखने को मिलती है और उम्र बढ़ने के साथ ख़त्म हो जाती है, लेकिन कई बार उम्र बढ़ने के बाद एलर्जी की समस्या सामने आती है | एलर्जी या अन्य शब्दों में कहा तो बाहरी तत्वों के प्रति शरीर की अतिसंवेदनशीलता एक आम समस्या है | एलर्जी होने का मुख्य संकेत यह है की हमरे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर पड़ रही है, जिसमे हमारा शरीर कुछ खास परिस्थितियों में कोई बाहरी तत्व स्वीकार करने से मना करने लगता है |

Types Of Allergies

  • ड्रग एलर्जी – किसी दवा से प्रभावित होकर प्रतिरक्षा प्रणाली का असामान्य रूप से प्रतिक्रिया करना |
  • फ़ूड एलर्जी – कोई खाद्य पदार्थ के सेवन के बाद प्रतिरक्षा प्रणाली से असामान्य प्रतिक्रिया मिलना |
  • किट एलर्जी – किसी भी किट के काटने या डंक मारने से प्रतिरक्षा प्रणाली का असामान्य होना |
  • मौसमी एलर्जी – मौसम में हुए अचानक बदालव के करना शरीर में असमान्य परिवर्तन देखना |
  • जानवरों से एलर्जी – जानवरों के संपर्क में आने के बाद भी एलर्जी की समस्या हो सकती है जिसमे हमारा प्रतिरक्षा प्रणाली सही ढंग से काम नहीं करता है |
  • फुफुन्द से एलर्जी – फुफुन्दी के बीजाणुओ से होने वाली असमान्य एलर्जिक प्रतिक्रिया
  • प्रदुषण से एलर्जी – धुल-कण, मिट्टी और धुवां से होने वाली एलर्जिक समस्या |
  • कांटेक्ट डर्मेटाइटिस – किसी वस्तु के संपर्क में आने से होने वाली एलर्जिक समस्या |

Symptoms Of Allergies.

आमतौर पर एलर्जी की समस्या किसी वस्तु के खाने और सम्पर्क में आने होती है | जिसमे हमारा शरीक कुछ मिनटों में ही असमान्य प्रक्रिया देना शुरू कर देता है | कभी कभी एलर्जी का लक्षण कुछ घंटों के बाद सामने आता है | वैसे तो एलर्जी की समस्या उतनी जटिल नहीं होती है, लेकिन कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या थोडा गंभीर हो सकती है |

ज्यादातर Seasonal Allergies में की सामान्य रूप से अधिक संख्या में समस्या देखने को मिलता है | मौसमी एलर्जी के लक्षण कुछ इस प्रकार के हो सकते हैं |

  • नाक बहना या रुकना
  • छींक आना
  • आँखों से पानी आना या खुजली होना
  • साइनस, गले, कान और नाक में खुजली होना
  • कान बंद होना या कम सुनाई पड़ना
  • बलगम आना
  • पेट में दर्द
  • मतली, उल्टी या दस्त होना
  • होठ, आँख, जीभ या चेहरे पर सुजन होना
  • त्वचा पर कुजली होना
  • सुखी, लाल या रुखी त्वचा
  • सिर दर्द होना
  • घबराहट
  • साँस लेने में परेशानी होना
  • खांसी आना

Seasonal Allergies.Instant Home Remedies For Allergy Relief

मौसमी एलर्जी में हम निचे दिए गए कुछ घरेलू उपचारों को अपना कर राहत पा सकते है |

Foods That Reduce Allergies./

  • प्याज का सेवन करें – प्याज के अन्दर Quercetin का गुण होता है | Quercetin सभी प्रकार के एलर्जिक समस्या से छुटकारा दिलाने में मदत करता है | इसके अन्दर भरपूर मात्रा में एंटीओक्सिडेंट होता है| प्जाज की तरह Quercetin गुण – सेव, रेड वाइन, बेरी, काली चाय, सायट्रस फल और अजमोद आदि में भी होता है | इन फलों या खाद्य पदार्थों को अगर अपने डाइट में शामिल किया जाये तो एलर्जी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है |
  • हल्दी का सेवन लाभदायक – हल्दी में बहुत से औषधीय गुण होते हैं | यह एंटीओक्सिडेंट का सबसे अच्छा श्रोत है, जो शरीर में हिस्टामिन को वृद्धि होने से रोकता है | हल्दी ऑक्सिडेटीव स्ट्रेस को भी कम करता है | इसके अंदर का करक्यूमिन एलर्जी से पीड़ित की साँस लेने की तकलीफों को कम करता है, और शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता भी है |
  • मछली का सेवन – मछली खाना फायदेमंद हो सकता है | मछली के अन्दर ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है जो एलर्जी होने की समस्या को रोकने में बहुत हद तक कारगर होता है | ओमेगा-3 फैटी एसिड- साल्मन, टूना फिश तथा और भी अन्य तरह की मछलियों में पाया जाता है | यदि ओमेगा-3 फैटी एसिड को अपने रेगुलर डाइट में किया जाये तो एलर्जी होने की सम्भावना को कम किया जा सकता है | ओमेगा -3 के लिए कुछ अन्य श्रोत भी है जैसे – अखरोट और अलसी के बीज |
  • विटामिन C – यदि अपने आहार में विटामिन-C के श्रोत को शामिल कर लिया जाये तो एलर्जिक समस्या होने की सम्भावना कम होती है |एलर्जी समस्या होने पर विटामिन-C युक्त भोजन करना चाहिए जो शरीर के रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है | विटामिन-C से सेवन से धीरे धीरे शरीर से हिस्टामिन कम होने लगता है और एलर्जी में राहत मिलने लगता है | विटामिन-C का मुख्य श्रोत – खट्टे फल जैसे – निम्बू, संतरा, स्ट्रावेरी, सेव और अंगूर आदि हैं |
  • दही का सेवन – पुराने समय से दही को एक औषधीय भोजन माना गया है | दही एक प्रोबायोटिक आहार होता है जो स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है | दही खाने से किसी भी प्रकार के एलर्जी में फायदा होता है | यह हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है, और आंतों से सम्बंधित समस्याओं को दूर करता है |
  • शहद – शहद एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जो एलर्जी के लक्षण को 60% तक रोक सकता है | यदि शहद का सेवन रेगुलर किया जाये तो कुछ ही दिनों में यह चमत्कारी लाभ देता है, और एलर्जी के लक्षण बहुत हद तक कम होजाते हैं | सामान्य तरह के शहद के जगह कच्चे शहद का उपयोग किया जाये तो बहुत ही असरदार फायदा होता है | शहद हमारे शरीर के प्रतिरक्षा प्रणाली को सामान्य बनता है |
  • अन्य आहार – एलर्जी के रोकथाम या एलर्जी से बचने के लिए हमें अपने रेगुलर डाइट में कुछ अन्य तरह के आहार को भी शामिल करना फायदेमंद होता है | जैसे – ग्रीन-टी, बीन्स, किवी, पालक, मैग्नीशियम और विटामिन-ई से भरपूर आहार आदि |

Disclaimer- यदि उपरोक्त बताये गए खाद्य पदार्थों में से किसी से आपको एलर्जिक समस्या हो तो, उसे आप ना खाएं |

Foods To Avoid With Allergies.

  • मसालेदार फ़ूड – मसालेदार खाना ना खाएं, क्योकि मसालेदार भोजन करने से शरीर में हिस्टामिन बढ़ जाता है | बढ़ा हुआ हिस्टामिन अधिक परेशानी बढाता है | इसलिए आप अगर किसी तरह की एलर्जी से जूझ रहें हैं तो मसालेदार भोजन को नजरंदाज करें |
  • डेयरी उत्पाद ना लें – यही आप नाक और गले की एलर्जी की समस्या से जूझ रहें हैं, तो ऐसे में कोई भी डेयरी उत्पाद का सेवन ना करें | क्योकि दूध और दही बलगम को बढाते हैं, जिससे नाक और गला बलगम से अवरुद्ध होने लगता है, तथा मरीज को साँस लेंने में तकलीफ का सामना करना पड़ता है |
  • कच्चे खाद्य पदार्थों को ना खाएं – यदि आप कच्चे फल, सब्जी, मांस और मछली आदि का सेवन करते हैं, तो एलर्जी में यह परेशानी बढ़ाने का कारक हो सकते हैं | हो सके तो हर कच्चे खाद्य पदार्थ को पका कर खाएं |
  • हिस्टामिन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ ना खाएं – ऐसे पदार्थ बिलकुल ना खाएं जिससे आपके शरीर में हिस्टामिन का स्तर बढ़ता हो | चीज, प्रोसेस्ड मीट, ड्राई फ्रूट्स, स्मोक्ड फिश, किसमिस, मसरूम, अवोकेडो, बैगन और टमाटर आदि |
  • शराब ना पियें – एलर्जिक समस्या में शराब पीना हानिकारक हो सकता है | शराब पिने से नाक और गले के साथ पेट सम्बंधित समस्याएं भी आ सकती हैं |

Effective Yoga For Allergy.

  • भस्त्रिका प्राणायाम-
  • सूर्य नमस्कार-
  • दंड बैठक-
  • मयूरासन-
  • जल नेति-
  • सूर्य नेति

This Post Has 2 Comments

प्रातिक्रिया दे